सोमवार, 21 अप्रैल 2008

हनुमान धारा के जल का उपयोग


हनुमान धारा चित्रकूट का एक तीर्थ स्थल है। कहते आज भी इस धारा के आस-पास पवन पुत्र हनुमान निवास करते हैं। इस धारा से निकलने वाले जल को लेकर यह कहा जाता है कि इसके जल के सेवन से पेट की कैसी भी बीमारी हो दूर हो जाती है।
आप देख सकते है जिस जल को पीने के लिय सैकड़ों - हजारों किलो मीटर से से भक्त आते हैं, उसका इस्तेमाल भाई साहब कपडे की चमकार बढ़ाने में कर रहे हैं, है किसी में जो उन्हें रोक सके

1 टिप्पणी:

mahashakti ने कहा…

chitra se spast nahi hai, kintu aap ki baat men sayata hai.

आशीष कुमार 'अंशु'

आशीष कुमार 'अंशु'
वंदे मातरम