शनिवार, 24 मई 2008

दिमागी तौर पर अवयस्क इस पोस्ट को ना देखें


यह तस्वीरें मुझे मेल टुडे के फोटो पत्रकार राहुल ईरानी ने उपलब्ध कराई हैं।

यह एन एस डी (मंड़ी हाउस, दिल्ली) में हुय। एक प्ले (नाटक) का दृश्य है।
यह कलाकार उज़बेकिस्तान से भारत इस प्ले के सिलसिले में आय थे।
जैसा कि आप जानते हैं उज़बेकिस्तान एक इस्लाम बहुल देश है। और हमारे समाज में यह धारणा है कि दुनिया भर में इस्लामिक स्त्रियों को सबसे अधिक डराया- दबाया और
छुपाया (बुर्के में रखा) गया है।

इस प्ले ने इस मीथ को तोडा है।
इन दृश्यों में देखने वालों को अश्लीलता इस नजर नहीं आई क्योंकि यह कलाकार जो दृश्य अभिनीत कर रही है,
वह प्ले की मांग है
आज के हिन्दी फिल्मों की तरह सिर्फ़ दिखावा के लिय यह दृश्य नहीं है।
इस दृश्य में एक स्त्री को देवदूत द्वारा दुग्ध स्नान कराया जा रहा है।



मुझे विश्वास है सुधी ब्लॉग पाठकों को इन तस्वीरों से कोई आपत्ति नहीं होगी।



जो भी है आपके सूझाव मेरे लिय महत्वपूर्ण हैं।

3 टिप्‍पणियां:

mahashakti ने कहा…

आपकी सोच भले ही उच्‍च दर्जे की हो सकती है किन्‍तु एक टिप्‍पणी मेरे ब्‍लाग पर भी आई थी समय मिले तो पढिये गा।

http://akhirikalam.blogspot.com/2008/01/blog-post_10.html

Rajesh Roshan ने कहा…

मुझे कोई बुराई नही दिखती. कलाकार हैं, प्ले की मांग हो तो जरुर कर सकते हैं

AVDHESH ने कहा…

Lage raho aaur kya kah sakta hun.........................aaj kal isi ki demand hai......basarte kalakar apne ghar aangan ki na ho....kyon ki demand hai to dikhana parega na.....

आशीष कुमार 'अंशु'

आशीष कुमार 'अंशु'
वंदे मातरम