गुरुवार, 17 जुलाई 2008

नई टिहरी से एक शुभ समाचार

इस बार एक अच्छी ख़बर नई टिहरी से. उन तमाम बुरी खबरों के बीच जो १९७८ से वहाँ से आ रहीं हैं. यहाँ गौरतलब है कि टिहरी में पहला विस्थापन बाँध की वजह से १९७८ में हुआ था. (पुरानी टिहरी में विस्थापन के बाद ही नई टिहरी का निर्माण हुआ) उसके बाद से यह सिलसिला अब तक कायम है. यह हर युग की कहानी है, गरीबों की आवाज हर समाज, हर सरकार द्वारा दबाई गई है. खैर, बात अच्छी ख़बर की करते हैं. पूरे टिहरी शहर में पौलिथिन के इस्तेमाल पर पाबन्दी लगा दी गई है. उस शहर में आपको किसी चौराहे पर लिखा बोर्ड मिल सकता है. 'यहाँ पौलिथिन का इस्तेमाल दंडनीय अपराध है. इस तरह के प्रयास की सराहना होनी चाहिए. और इसे कोई अन्य शहर भी अपने यहाँ प्रयोग में लाए तो यह एक अच्छा प्रयोग होगा. यदि मेरी सुने तो मैं देशभर में इसके इस्तेमाल के पाबंदी के समर्थकों में हूँ.

2 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

Sukhad khabar hai. Anoop Shukla Fursatiya ji ne bhi Kanpur me apne factory campus me aisa hi abhiyaan safltapurvak chalaya tha.

सतीश सक्सेना ने कहा…

नया परन्तु सर्वाधिक महत्वपूर्ण विषय उठाया है आपने , इस पर और लिखें तो उपकार होगा इस धरा तथा जीवों पर ! आज कितने मूक जानवर थैली खाकर दर्दनाक मौत पाते हैं और हम लोगो को पता तक नही की हमने क्या कर दिया है ! कृपया इसे आगे बढाये !
मगर ऐसे विषयों पर लोग शायद आपको तारीफ़ देने नहीं आयेंगे , विचलित न होना !

आशीष कुमार 'अंशु'

आशीष कुमार 'अंशु'
वंदे मातरम