शुक्रवार, 19 फ़रवरी 2010

कविता की पाठशाला



राष्ट्रीय कवि संगम' दिल्ली में नियमित गोष्ठियों के माध्यम से चलाई जा रही है। इसमें देशभर के प्रतिष्ठित गीत, छंद, गजल, हास्य के उस्ताद आकर उभरते कवियों को इस क्षेत्र की बारीकियां सिखाते हैं। साथ ही नए कवियों को मंच पर प्रस्तुति का अवसर भी दिया जाता है
क्या तुम ऐसी पाठशाला की कल्पना कर सकते हो, जहां किशोरों और युवाओं को कविता लिखना और मंच पर उसकी प्रस्तुति सिखाई जाती हो। ऐसी ही एक पाठशाला ‘राष्ट्रीय कवि संगम’ दिल्ली में नियमित गोिष्ठयों के माध्यम से चलाई जा रही है। इसमें देशभर के प्रतििष्ठत गीत, छंद, गजल, हास्य के उस्ताद आकर उभरते कवियों को इस क्षेत्र की बारीकियां सिखाते हैं। यहां नए कवियों को इस बात का अवसर भी दिया जाता है कि वे वरिष्ठ कवियों के सामने अपने सवाल रख सकें। इस मंच के माध्यम से पद्मिनी शर्मा (19), प्रबल पोद्दार (18) प्रीति विश्वास (21) जैसे कई किशोर कवियों ने अपनी मंचीय पहचान बनाई है।
50 सेकेण्ड का प्रबंधन मंच पर लगातार जमे जमाए कवियों को ही बुलाए जाने की परंपरा रही है, इस तरह मंच पर अपार संभावनाओं के बावजूद नए कवियों के लिए ‘द्वार’ लगभग बंद ही थे। लेकिन नए कवियों के लिए मौका कवि संगम ने उपलब्ध कराया। वह नए प्रतिभावान कवियों के लिए पिछले तीन वर्षों से ‘दस्तक नई पीढ़ी की’ के नाम से कार्यक्रम कराता आ रहा है। इन तीन सालों में संगम ने तीन दर्जन से भी अधिक युवा कवियों को राष्ट्रीय पटल पर लाकर रखा। संगम से जुड़े शंभू शिखर और दीपक गुप्ता ने लाफ्टर चैलेन्ज-दो में दिल्ली का प्रतिनिधित्व भी किया है। मंच पर लाने से पहले
‘दस्तक युवा पीढ़ी की’ के मंच पर आने से पहले इसकी टीम में शामिल कवियों को पूरे एक साल तक प्रशिक्षित करने का काम ‘राष्ट्रीय कवि संगम’ करता है। कवि संगम ने अपने जिम्मे यह बिल्कुल नए तरह का काम लिया है। देश भर में छुपे उन प्रतिभाओं को तलाशने और मंचीय प्रस्तुति के लिए दक्ष करने का, जिनमें जरा सी भी अंकुरित, पल्लवित, पुिष्पत होने की संभावना हो। मंचीय कविता के नए रंगरूटों को दंगल में उतरने से पहले राष्ट्रीय कवि संगम के मासिक गोष्ठी में अपने रचनाओं की जोर आजमाइश करनी होती है। कैसी हो कविता
संगम से जुड़े कवियों का स्पष्ट मानना है, कविता किसी भी विधा में लिखी जाए, यदि वह समाज को कोई सार्थक संदेश नहीं देती, फिर उस कविता का होना या ना होना बराबर है।
वर्तमान में यह मासिक गोष्ठियां राजधानी में आयोजित हो रहीं हंै। इन गोिष्ठयों में शामिल होने के लिए सिर्फ इतनी योग्यता चाहिए कि आप कविता लिखते हों और आपकी रूचि मंचीय कविता में हो। आने वाले समय में इस तरह की गोिष्ठयों को देश के दूसरे हिस्सों में शुरू करने की योजना संगम बना रहा है।
सबके लिए खुला मंच
कवि संगम की सबसे अच्छी बात यह है कि मंच वाया गोष्ठी की दूरी तय करने के लिए यहां न किसी की पैरवी चलती है, न आरक्षण। यदि आप में मंच पर अच्छा प्रदर्शन करने की योग्यता है तो समझिए राष्ट्रीय कवि संगम को आपकी तलाश है।
Updated : Monday, 18 Jan 2010, 14:42 [IST]
(http://www.rashtriyasahara.com/NewsDetails.aspx?lNewsID=111466&lCategoryID=२८)

2 टिप्‍पणियां:

Rajey Sha ने कहा…

भोपाल में ऐसे कि‍सी आयोजन का वि‍चार हो तो हमें भी सूचि‍त कीजि‍ये।

Rudra Singh ने कहा…

Delhi me kaha h ye manch

आशीष कुमार 'अंशु'

आशीष कुमार 'अंशु'
वंदे मातरम