सोमवार, 19 मई 2008

तेजिंदर, शर्मा (यू के) की एक कविता गिलहरी


तेजिंदर, शर्मा (यू के) जी का पत्र वाया मेल -
आपका ब्लॉग देखा, अभिभूत हुआ। आप जैसे मित्रों के प्रयासों से लन्दन में रह कर भी हम भारत की समस्याओं से परिचित रह पाते हैं। आपके ब्लॉग पर गिलहरी के चित्र (http://ashishanshu.blogspot.com/2008/05/blog-post_05.html) देखे। हाल ही में लन्दन की गिलहरी पर एक कविता लिखी थी। शायद आपको मालूम हो कि लन्दन की गिलहरी भारत की गिलहरी से देखने में एकदम अलग होती है। आप वो कविता यहां पढ़ सकते हैं। क्योंकि आपने गिलहरी नृत्य सराहा है, शायद आपको यह कविता भी पसन्द आए ।

----- ----- ---- ------ ----- ------ ------- -------तेजिंदर जी की कविता विशेष पसंद आई, अब पाठकों के लिय इस उम्मीद में कि वे भी इसे पसंद करेंगे।

गिलहरी
रहती है मेरे घर के पीछे
बाग़ के एक दरख़्त पर
उछलती, कूदती, फरफराती
एक डाल से दूसरी पर
बंदरिया-सी छलांग लगाती।
ये मेरे बाग़ की गिलहरी है।
इस देश के गोरे नागरिकों की
करती है नकल, अपनी
फ़रदार पूंछ को हिलाती है
अलग-अलग दिशा में नचाती है
चेहरे पर रोब लाए
करती है प्रदर्शन, अपनी
अमीरी का, अपनी सुन्दरता का
हां, ये मेरे बाग़ की गिलहरी है।
अपने आगे के पैरों को देती है
हाथों-सी शक्ल और वैसा ही कामकुतरती है सेब,
मेरे ही बाग़ के
ऐंठती हुई करती है अठखेलियां
पेड़ों से टकराती ब्यार से
उफ़! ये मेरे बाग़ की गिलहरी।
जब जी चाहे पहुंच जाती है
मेरे ज़ीने पर,
मेरे स्टोर में
कुतर डालती है,
दिखाई देता है जो भी
मैं, बस सुनता हूं आवाज़ें
घबराता हूं, मांगता हूं दुआ
पुस्तकों की ख़ैरियत की।
मुझे भक्त बना देती है
ये जो है मेरे बाग़ की गिलहरी।
एक दिन सपने में मेरे आ खड़ी होती है
चेहरे पर दंभ, रूप से सराबोर
गदराया बदन, दबी मुस्कुराहट
आज आने वाली है
उससे मिलने
उसकी दूर की एक रिश्तेदार!
उस शहर से जहां बीता था मेरा बचपन
हां, वो भी तो एक गिलहरी ही है।
ग़रीबी के बोझ से दबी
सिमटी, सकुचाई, शरमाई
अपने सलोने रंग से सन्तुष्ट
संग लाई है अपने अमरूद
बस वही ला सकती थी
महक मेरे शहर की मिट्टी की
पाता हूं वही महक कभी अमरूद में
तो कभी उसमे जो मेरे शहर की गिलहरी है।
मेरे बाग़ की गिलहरी को नहीं भाती
गंवई महक अमरूद की, या फिर
मेरे शहर की मिट्टी की वो गंध
जो मेरे शहर की गिलहरी ले आई है
अपने साथ, अपने शरीर अपनी सांसों में।
वह रखती है अपनी मेहमान के सामने
केक, चीज़ और ड्राई फ़्रूट
कितनी भी खा ले, पूरी है छूट
कितने बड़े दिल की मालकिन है
वो जो मेरे बाग़ की गिलहरी है।
मेरे शहर की गिलहरी सीधी है सादी-सीनिकट है
प्रकृति के, सरल और मासूम
बस खाती है पेड़ों के फल, कैसे पचाए
केक, चीज़ और ड्राई-फ़्रूट
देखती है, मुस्कुराती है, पूछती है हाल
अपनी मेज़बान के,
उसके परिवार के।
परिवार यहां नहीं होता,
सब रहते हैं
अलग-अलग, यह मस्त देश है
ऊंचे कुल की दिखती है वो
जो मेरे बाग़ की गिलहरी है।
“सुनो, तुम यह सब नहीं खाती हो
इसी लिये सेहत नहीं बना पाती हो
मुझे देखो, कितना ख़ूबसूरत देश है मेरा
कैसा है मेरा स्वरूप, रंग रूप।॥
देखो
मेरे बाग़ में कितने सुन्दर पेड़ हैं
रंग-बिरंगी पत्तियों वाले पौधे!
यहां का हरा रंग कितना गहरा है!
यहीं आ बसो,
यहां है कितना सुखकितनी शान, मौज है मस्ती है।”
आत्ममुग्ध हो जाती है, जोमेरे बाग़ की गिलहरी है।

चुप नहीं हो पाती है,
जारी हैबोलना उसका और इठलाना।
मेरे देश में इन्सान से अधिक
होती है परवाह हमारी
यही है वो देश जहां कभी
अस्त नहीं होता था सूर्य
जब कभी उदय होता है पूर्व में
तब भी चमकता है मेरा यह
पश्चिम का देश
और चमकने लगता है चेहरा,
मेरे बाग़ की गिलहरी का।
शांत किन्तु दृढ़ आवाज़ में
देती है जवाब, गिलहरी मेरे शहर की।
माना कि तुम हो बहुत सुन्दर और सुगठित
धन और धान्य से भरपूर है शहर तुम्हारा
तुम्हारे देश में हैं सुख,
सुविधाएं और आराम
देखो मेरी ओर,
देखो मेरे इस साधारण बदन को,
यह तीन उंगलियां जिसकी हैं
उसका नाम है राम!
इस तरह देती है सुख
मुझे असीम,
वो जो मेरे शहर की गिलहरी है।

यह कविता यहाँ भी पढी जा सकती है -

3 टिप्‍पणियां:

मोहन वशिष्‍ठ ने कहा…

आशीष जी मजा आ गया गिलहरी पढकर बहुत खूब बहुत अच्‍छा लगा

Mired Mirage ने कहा…

कविता बहुत अच्छी लगी । हाल ही में मैंने भी http://ghughutibasuti.blogspot.com/2008/05/blog-post_07.html में भारतीय और अमेरिकन गिलहरी पर एक व्यंग्य लिखा था व दोनों गिलहरोयों की फोटो भी दीं थीं।
घुघूती बासूती

Udan Tashtari ने कहा…

कविता बहुत बढ़िया लगी. शर्मा जी को बधाई और आपका आभार.

आशीष कुमार 'अंशु'

आशीष कुमार 'अंशु'
वंदे मातरम