मंगलवार, 10 जून 2008

रोइंग मास्टर अजय कीर


आदिवासी छात्र अजय कीर वाटर स्पोर्ट्स रोइंग का खिलाड़ी है। उनका जन्म एक गरीब परिवार में हुआ। उनके पिताजी नाव में सिंघारा निकालने जाया करते थे। सिंघारा एक जलीय फल है, जो पोखर और तालाबों में होता है। अजय की नाव और पानी के साथ पहली यारी यही हुई। जब वे तालाब में सिंघारा निकालने गए। बाद में रोजगार की जरूरत महसूस हुई, उसी दौरान भोपाल में किसी ने वाटर स्पोर्ट्स सेंटर का पता बताया। यहीं से अजय के जिंदगी में रोइंग का प्रवेश हुआ। अजय कीर रोइंग में मध्य प्रदेश के लिए एक स्वर्ण पदक लेकर आए। ग्रामीण युवा केन्द्र द्वारा बनाई गई एक फ़िल्म में भी अजय नजर आते हैं। वर्त्तमान में भोपाल स्पोर्ट्स सेंटर में अजय बतौर लाइफ गार्ड नियुक्त हैं। (सोपान स्टेप में प्रकाशित)

3 टिप्‍पणियां:

DR.ANURAG ने कहा…

aise jajbe ko mera salam....

Lovely kumari ने कहा…

kabile tarif hai inka kaam.jankar khusi huyi inke bare me.

Dawn....सेहर ने कहा…

MashaAllah! bahut hee khoob! tarif-e-kabil hai khushi hui jaankar.

Shukriya ise yahan pesh karne ka :)
Hamari Hindi Kavita ki kitaab chapi hai gaur farmaiyega: http://pratahakaal.blogspot.com/

Khush rahein sada

आशीष कुमार 'अंशु'

आशीष कुमार 'अंशु'
वंदे मातरम