रविवार, 22 जून 2008

दिल्ली मेट्रो में घ्यान दें

दिल्ली मेट्रो में जो चढ़े हों उनके लिए यह सूचना जानी- पहचानी सी होगी।
लेकिन कोई यह तो बताए कि यह 'घ्यान' रखते कैसे हैं?
मेरी बात पर ज़रा 'ध्यान' दीजिएगा जनाब।

11 टिप्‍पणियां:

अरुण ने कहा…

क्या बात करते है जी ? नीचे वाली लाईन मे साफ़ साफ़ तो लिखा है कि प्लीज माईंड दा गैप यानी माईंड ( अगर है तो) गैप को माईंड करे. :)

Rajesh Roshan ने कहा…

पारखी होते हुए भी आप पारखी नही हैं.... दिल्ली मेट्रो ऐसी एक गलती नही करता है.. मेट्रो को मैट्रो... जहा जहा ध लिखा गया है वहा वहा घ का प्रयोग किया गया है... गौर कीजियेगा....

आशीष कुमार 'अंशु' ने कहा…

अरूण भाई,
यदि सुचना अंग्रेजी से ही समझनी है तो हिन्दी की जरूरत ही क्या है?

अल्पना वर्मा ने कहा…

aisee galatiyan aksar deekh jaati hain--aur news channels mein bhi aksar hindi mein spelling mistakes bahut dikhayee deti hain-

NILAMBUJ SINGH ने कहा…

ऐसे ही काम करते रहो। क्या ध्यान दिलाया है!

" राज भाषा " का जनाज़ा है

ज़रा धूम से निकलेगा!!

worse ने कहा…

वाह जी वाह...उम्दा प्रयास है. लगे रहो भाई

बेनामी ने कहा…

ye hai english se hindi anuvaad ke parinam. iski jagah maulik hindi ka vakya hota to sahi hota.

संत शर्मा ने कहा…

Bade bade saharoo me yesi choti choti galtiya akshar ho jati hai, hahah

संत शर्मा ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
Udan Tashtari ने कहा…

ध्यानाकर्षण के लिए आभार.

अरुण मित्तल 'अदभुत' ने कहा…

very good i have also seen this mistake so many times.

आशीष कुमार 'अंशु'

आशीष कुमार 'अंशु'
वंदे मातरम