शनिवार, 24 जनवरी 2009

मीडिया स्कैन चर्चा में

ब्रजेश भाई का यह लेख दीवान पर मिला. ब्रजेश भाई का परिचय उन्हीं के शब्दों में 'गंगा के दोआब से यमुना के तट पर आना हुआ। दिल्ली विश्वविद्यालय के किरोड़ीमल कालेज में यूं ही वक्त निकल गया। कैंपस के अंग्रेजिदां माहौल में हिन्दी की तरह दिन बीता। पर अब खबरनवीशों की दुनिया ही अपनी दुनिया है।' यहाँ प्रस्तुत है उनका लिखा :
'मीडिया स्कैन' चार पन्नों का मासिक अखबार है। यह छात्रों के बीच खूब चर्चा में है। इसका अंदाजा इसी बात से लगाइये कि अभी इसकी पीडीएफ फाइल ही पाठकों तक पहुंची है और वे लोग इसपर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। अखबार को कुछ हदतोड़ी पत्रकार बड़ी मेहनत से निकाल रहे हैं। उनसे अपनी भी खूब बनती है। लेकिन वे लोग इस बिनाह पर अखबार में जगह नहीं देते। खैर! इस पर शिकायत फिर कभी। नया अंक ब्लाग के तानेबाने पर आया है। पर अखबार से संपादकीय गायब है। अखबार के संपादक महोदय ने बताया कि ब्लाग की दुनिया से उनका खास परिचय नहीं है। इसलिए वे इस बाबत कुछ वजनी बात करने में असमर्थ थे। इसलिए उन्होंने कुछ भी नहीं लिखा। हालांकि उन्हें हिंदी-ब्लाग के वजन का अनुभव अखबार की पीडीएफ फाइल भेजने के चंद घंटों बाद ही हो गया, जब उन्हें यह तीखी प्रतिक्रिया सुनने को मिली की फलां व्यक्ति पहले पेज पर है.... तो फलां क्यों नहीं। इस पंक्ति के लेखक को भी कुछ लोगों ने फोन कर बताया कि मीडिया स्कैन का ब्लाग अंक आया है। इसे जरूर पढ़ें। यहां सहज ही महसूस होता है कि इसे लेकर कई लोग अपने-अपने तरीके से उत्साहित व नाराज हैं। हालांकि इससे हिंदी ब्लागरों के बीच स्थान को लेकर मची प्रतिस्पर्धा का खूब पता चलता है। वैसे तो हिन्दुस्तानी समाज आज भी प्रिंट का समाज है और यहां प्रकाशित शब्दों पर ज्यादा यकीन किया जाता है। यदि प्रकाशकों का अधिपत्य कम करना है तो ब्लागरों कोअपने स्थान से ज्यादा विषय व उसकी प्रामाणिकता पर खासा ध्यान देना होगा। मीडिया स्कैन को पढ़कर लगा कि ब्लागर्स लुत्फ उठाते हुए ही सही पर गंभीर काम कर रहे हैं।

6 टिप्‍पणियां:

विनय ने कहा…

बहुत बढ़िया लिखा है

---आपका हार्दिक स्वागत है
गुलाबी कोंपलें

बेनामी ने कहा…

charcha kyun na ho aap jaise mahan logon ke saath RTI wisheshagy , batla-house ke samarthak , alpsankhyako ke masiha sriman afroj aalam sahil jo hain .

Udan Tashtari ने कहा…

बधाई मिडिया स्कैन को....वेल डिजर्वड.

Anil Pusadkar ने कहा…

बधाई हो गणतंत्र दिवस की।

shirish ने कहा…

media scane ki ek copy agar mere email id par bhi mil jaye, to naye dost aur unke vichaaro se judne ka mouka milega.

mera email id hai- shirish2410@gmail.com

shirish ने कहा…

media scane ki ek copy agar mere email id par bhi mil jaye, to naye dost aur unke vichaaro se judne ka mouka milega.

mera email id hai- shirish2410@gmail.com

आशीष कुमार 'अंशु'

आशीष कुमार 'अंशु'
वंदे मातरम