गुरुवार, 3 जून 2010

शेर ए कमाल

3 टिप्‍पणियां:

kunwarji's ने कहा…

आशु भाई बात आपने जानदार और शानदार तरीके से कही पर

ये उदासी क्यों है तस्वीर में...
अनबन सी दिखी
शब्दों और आपकी तासीर में....

बहुत बढ़िया..

कुंवर जी,

माधव ने कहा…

bahut khub

शारदा अरोरा ने कहा…

बात तो बहुत सुन्दर है ।

आशीष कुमार 'अंशु'

आशीष कुमार 'अंशु'
वंदे मातरम