बुधवार, 1 सितंबर 2010

क्या इस कॉलगर्ल वृत्ति पर सरकार की नजर नहीं है?


किसी रीत्ती देसाई का ई-मेल आज मिला। इसमें कृष्ण जन्माष्टमी शुभकामनाएं हैं और साथ में उनके स्कॉर्ट कंपनी का विज्ञापन। जिसमें दिल्ली, मुम्बई और गुजरात में एक खास रकम के बदले कॉल गर्ल उपलब्ध कराने का वादा किया गया है। इस मेल के साथ एक मोबाईल नम्बर (+919650288832)है और वेब एड्रेस भी। क्या खुलेआम चल रही इस दुकानदारी पर सरकार की नजर नहीं है। या कहीं यह भी कॉमन वेल्थ गेम की तैयारी तो नहीं है.

1 टिप्पणी:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (ਦਰ. ਰੂਪ ਚੰਦ੍ਰ ਸ਼ਾਸਤਰੀ “ਮਯੰਕ”) ने कहा…

हमें कयों रिझाते है मान्यवर!
--
अह तो हर बात बहुत दूर गई!
चाँदनी रात बहुत दूर गई!!

आशीष कुमार 'अंशु'

आशीष कुमार 'अंशु'
वंदे मातरम