गुरुवार, 30 सितंबर 2010

दिल्ली बदनाम हुई डार्लिंग मेरे लिए ...


















1 टिप्पणी:

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

बहुत ही शानदार सामयिक कारटून हैं ...बधाई...
आज ब्लॉग "समयचक्र" हैकर का शिकार हो गया था ....हैकर से बचे अपने पास वार्ड बदल लें ....

आशीष कुमार 'अंशु'

आशीष कुमार 'अंशु'
वंदे मातरम