मंगलवार, 2 नवंबर 2010

मेनका गाँधी उन्हें सजा क्यों नहीं दिलवाती??


नाथ संप्रदाय के लोगों के साथ दाहोद (गुजरात) में, एक दिन बिताने का मौका मिला.

इस समाज के लोग सांप का खेल दिखाकर अपने रोजी रोटी का इंतजाम करते है. आज मेनका गाँधी की वजह से इनका रोजगार छीन चूका है.
\
इस समाज के बुजुर्ग बाबूनाथ कहते है, हम तो सांप को अपने बच्चे की तरह पालते थे, हमसे उन्हें छीन लिया गया लेकिन जो लोग गाय, मछली, मुर्गे की हत्या अपने खाने के लिए कर रहे हैं, मेनका गाँधी उन्हें सजा क्यों नहीं दिलवाती? फिलहाल बाबूनाथ न्यायलय की शरण में हैं. चूकि यह मामला १० लाख से अधिक नाथ परिवारों का है.

1 टिप्पणी:

Somesh Saxena ने कहा…

सचमुच इन बेचारों का तो रोजगार ही छिन गया। इनके बारे मे और अधिक विस्तार से लिख्नना चाहिए था आपको।

आशा है आपने मुझे पहचान लिया होगा। हम भोपाल में मिल चुके हैं।

आशीष कुमार 'अंशु'

आशीष कुमार 'अंशु'
वंदे मातरम