रविवार, 7 सितंबर 2008

उड़नतस्तरी (समीरलाल जी) का निवेदन

समीरलाल जी की यह टिप्पणी, अपने पोस्ट पर टिप्पणी चाहने वाले हर चिट्ठाकार के लिए मुझे लगता है अनुकरणीय है। जो अपनी पोस्ट पर टिप्पणी नहीं चाहते ऐसे बंधू भी यहाँ योगदान करें तो ग़लत नहीं कहा जाएगा।

लिखते हैं, अपने ब्लॉग पर छापते हैं। आप चाहते हैं लोग आपको पढ़ें और आपको बतायें कि उनकी प्रतिक्रिया क्या है। ऐसा ही सब चाहते हैं.कृप्या दूसरों को पढ़ने और टिप्पणी कर अपनी प्रतिक्रिया देने में संकोच न करें.हिन्दी चिट्ठाकारी को सुदृण बनाने एवं उसके प्रसार-प्रचार के लिए यह कदम अति महत्वपूर्ण है, इसमें अपना भरसक योगदान करें.-



समीर लाल-
उड़न तश्तरी

7 टिप्‍पणियां:

सौरभ कुदेशिया ने कहा…

bilkul sahi kaha ji aapne..main aapki vicharo ka pura samarthan karta hu..

mamta ने कहा…

पूरी तरह सहमत है।

फ़िरदौस ख़ान ने कहा…

अच्छी कोशिश है...

कामोद Kaamod ने कहा…

हिन्दी और हिन्दी चिट्ठाकारिता को इसी तरह के प्रोत्साहनों की जरूरत है.

सचिन मिश्रा ने कहा…

sir aapne sahi kaha hai. main aap ke vichro se sahmat hu.

Lavanyam - Antarman ने कहा…

sahee keha aapane !

विवेक सिंह ने कहा…

अच्छा है. बेहतरीन है . बधाई.

आशीष कुमार 'अंशु'

आशीष कुमार 'अंशु'
वंदे मातरम